Festivals Trend

Short Stories, Quotes, Wishes & Sms




Slogans of Mahatma Gandhi in Hindi 2nd October

Slogans of Mahatma Gandhi in Hindi 2nd October

Slogans of Mahatma Gandhi in Hindi 2nd October

Slogans of Mahatma Gandhi in Hindi

पूंजी अपने-आप में बुरी नहीं है, उसके गलत उपयोग में ही बुराई है। किसी ना किसी रूप में पूंजी की आवश्यकता हमेशा रहेगी।

क्रोध और असहिष्णुता सही समझ के दुश्मन हैं।

विश्व के सभी धर्म, भले ही और चीजों में अंतर रखते हों, लेकिन सभी इस बात पर एकमत हैं कि दुनिया में कुछ नहीं बस सत्य जीवित रहता है।

व्यक्ति कि पहचान उसके कपड़ो से नहि, उसके चारित्र से आंकी जाती है |

पहेले वो आप पर ध्यान नहि देंगे, फिर वो आप पर हसेंगे, फिर वो आपसे लड़ेंगे, और तब आप जीत जायेंगे |

केवल प्रसन्नता ही एकमात्र इत्र है, जिसे आप दुसरे पर छिडके तो उसकी कुछ बुँदे अवश्य ही आप पर भी पड़ती है |

जो समय बचाता है, वह धन बचाता है और बचाया हुआ धन, कमाए हुए धन के बराबर है |

आपकभी भी यह नहीं समझ सकेंगे की आपके लिए कौन महत्त्वपूर्ण है जब तक की आप उन्हें वास्तव में खो नहीं देंगे।

आप मुझे बेडियों से जकड़ सकते हैं, यातना भी दे सकते हैं, यहाँ तक की आप इस शरीर को ख़त्म भी कर सकते हैं, लेकिनआप कदापि मेरे विचारों को कैद नहीं कर सकते।

विश्व में कुछ ऐसे भी लोग हैं जोइतने भूखे हैं कि भगवान् उन्हें किसी और रूप में नहीं दिख सकता, सिवाय रोटी देने वाले के रूप में।

 

Updated: September 29, 2017 — 2:51 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Festivals Trend © 2017 Frontier Theme